Blessings from Grandma :)

—– भजन —-
रोम रोम में तुम्ही हो हरजी
रोम रोम तुम्हारा है
मैं तो बस एक बुत हूँ हरजी
स्पंदन तुम्हारा है
सभी जीवों के तुम्ही हो सृष्टा
तुम्ही से जीवनधारा है
निर्मल को तुम्ही बल देते
तू सबका पालनहार है
ये जग है क्रीड़ा स्थल
तू खेल खिलावन्हारा
हारे जब भी हम जीवन से
दिया तुम्ही ने सहारा है
रोम रोम में तुम्ही हो हरजी
रोम रोम तुम्हारा है

—- सवर्ण कौर

Do you like this poem? Get the updates via Facebook, or Follow us on Twitter, or Subscribe to us via RSS Feed”. It’s easy, and free! Also you can Promote this post on IndiBlogger, Share & Like on Facebook, Pin on Pinterest, Plus & Share on Google or Retweet on Twitter.. Do not forget to leave your footprints! Thanks in advance!

0 Replies to “Blessings from Grandma :)”

  1. @ ♥●• İzdihër •●♥

    I wish I could read it L(
    I am sure it muct be awesome.

    Saravana , can you teach me how to add FB comment on my blog. I tired to doing it. I shall be very thankful.

    Follow each other.

    It's a wonderful poem. Try translating it through Google Chrome and read. 🙂 Sure.. I shall.. Please drop a text to me. 🙂

    Someone is Special

"முகமறியா நண்பர்களின் கருத்துக்களே எனக்கு படிகற்கள்"